admin

Ahimsa param dharm hai

“अहिंसा ही परम धर्म है” “अहिंसा ही परम धर्म है”   मानव जीव अति दुर्लभ है । पुण्य कर्मों से हमें यह मानव जीवन प्राप्त हुआ है इस मनुष्य जीवन का सदुपयोग करते हुए मानव जीवन में अपने भीतर सदा सेवा भावना रखनी चाहिए । भगवान महावीर ने “जिओ और जीने दो” का जो अहिंसा …

Ahimsa param dharm hai Read More »

संतोष ही वास्तविक खुशी (Authentic Happiness )

संतोष ही वास्तविक खुशी है रिश्ते-नाते, आभुषणों में खुशी को हमने कभी पाया होगा, घुमने फिरने, मोज मस्ती में खुशी को हमने थोड़ा ढ़ुंढा होगा। सब है फिर भी सुकुन नहीं, इस वास्तविक खुशी का राज क्या होगा? कैसे रहे हम हर पल-हर क्षण खुश, आज हमें मिलकर सोचना होगा।।   खुशी.. खुशी का नाम …

संतोष ही वास्तविक खुशी (Authentic Happiness ) Read More »

स्वार्थी नहीं, परोपकारी बने

स्वार्थी नहीं, परोपकारी बने स्वार्थी नहीं, परोपकारी बने   स्वार्थी नहीं, परोपकारी बने   21 वीं सदी में, एक उदार एवं परोपकारी व्यक्ति को खोजना मुश्किल है, लेकिन प्रकाश की एक किरण हमेशा अंधेरे के आसपास मौजूद होती है। यह सच है कि अपनी भलाई के बारे में तो हर कोई सोचता है। लेकिन महान …

स्वार्थी नहीं, परोपकारी बने Read More »

The Two Bachelors

Short Story – The Two Bachelors Narada, the celestial sage, was a confirmed bachelor, but one day he saw Princess Shrimati and fell in love with her. To his dismay another sage, Tumburu, was also smitten by her and wanted to marry her. Both were devotees of Lord Vishnu and both sought his help. Narada …

The Two Bachelors Read More »

The God of Love

Short Story – The God of Love Eros was the son of Aphrodite, goddess of love, and was always at her side to assist her in her matchmaking endeavors. He was a blond and playful winged youth, armed with a golden bow and arrows. Whoever he shot at immediately fell in love. One day Aphrodite, …

The God of Love Read More »