Poem

Netaji Ki Ho Rahi Ek Din Achchhi Pitai – नेताजी की हो रही एक दिन अच्छी पिटाई

नेताजी की हो रही एक दिन अच्छी पिटाई Writer – Naren Anchalia नेताजी की हो रही एक दिन अच्छी पिटाई, जनता के पैसों की उन्होंने की थी सफाई, किसी ने लात, किसी ने चाँटे, किसी ने घुसे मारे, कुछ लोगों ने मस्ती में नेताजी के कपड़े फाड़े, इतना मार खाने के बाद नेताजी चिल्लाए अपनी …

Netaji Ki Ho Rahi Ek Din Achchhi Pitai – नेताजी की हो रही एक दिन अच्छी पिटाई Read More »

Uddeshy Ko Svyanm Khojana – उद्देश्य को स्वयं खोजना

उद्देश्य को स्वयं खोजना Writer – Naren Anchalia जीवन के उन पलों में जब लगे कि कोई नहीं है पास, जब मन उद्विग्न हो और डूबती लगे जीवन की आस, दो क्षणों के लिए अपनी आँखों को मूंद कर सोचना, इस दुर्लभ मानव जीवन के उद्देश्य को स्वयं खोजना। नरेन आंचलिया

Nahi Bachegi Ye Dharti Jab, Tu Kahan Chain Se Soyega? – नहीं बचेगी ये धरती जब, तू कहाँ चैन से सोएगा?

नहीं बचेगी ये धरती जब, तू कहाँ चैन से सोएगा? Writer – Naren Anchalia घोर तिमिर है छाया, देखो गरज रहे हैं मेघ, देख देख तू, देख देख तू, इस लीला को देख, वायु वेग की गतियों से, कांप उठा हिमालय, अग्नि की ज्वाला ने कहा देख अंतिम प्रलय, नदियों का है वेग बढ़ रहा, …

Nahi Bachegi Ye Dharti Jab, Tu Kahan Chain Se Soyega? – नहीं बचेगी ये धरती जब, तू कहाँ चैन से सोएगा? Read More »

Jeet Jaunga Chunautiyo Se aatmavishwas hai – जीत जाऊंगा चुनौतियों से आत्मविश्वास है

जीत जाऊंगा चुनौतियों से आत्मविश्वास है, Writer – Naren Anchalia न दुःखी हूँ, न उदास हूँ, न हताश हूँ, न निराश हूँ, बस समय के पहिये को देख रहा हूँ, कर्म के तप में स्वयं को सेक रहा हूँ, जीत जाऊंगा चुनौतियों से आत्मविश्वास है, पर जीत का अहंकार न हो यही आस है । …

Jeet Jaunga Chunautiyo Se aatmavishwas hai – जीत जाऊंगा चुनौतियों से आत्मविश्वास है Read More »